Thursday, May 14, 2015

रोक नहीं सकती बधाये उन का रास्ता
जब लगन और ,है,सिर्फ मंजिल से वास्ता

 सजन

No comments:

Post a Comment