Thursday, May 14, 2015

प्यारा बंधन
हम दोनों यारों मे
.............................गरम चाय
स्पर्श भावों के
रोमांच शरीर पे
.............................वाष्पित चाय

लिखे लेख से
एक ही विचार मे
............................अनुप्त चाय
मन तृप्ती से
प्रशन्न चहरे से
............................ठंडाई चाय
ठंडी चुप्पी पे
तूफान ह्रदय के
..............................छलकी चाय
हम साथ मे
लगन चिन्तन से
.............................फिरसे चाय
ठंडी रातो मे
हम दोनों साथ मे
.............................गरम चाय

 सजन

No comments:

Post a Comment